Saturday, 7 October 2017

Sad Poem

यहाँ वक्त की लकीर बदल जाती है ,
पल भर में तकदीर बदल जाती है ,
एक बार जो खो जाये वो दोबारा नहीं मिलता ,
और मिलता भी है तो तस्बीर बदल जाती है..

First

लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं / हिंदी कविता शायर के द्वारा

￰घर में बच्चे लेकिन बहार  मशहूर होते  हैं अ जी लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं लड़के भी घर से बाहर मम्मी-पापा के बगैर  होते हैं ...