Hindi All Type Shayari

मेरी कविता

Hindi All Type शायरी मेरी कविता

निश्वार्थ भाव है प्रेम मेरा इसकी कोई भी वजह नहीं मै आज भी तुझ पर मरता हूँ,शायद तुझको ये पता नहीं
सुइयां तकते-तकते हमने रातें सारी जग डाली    मई-जून की घोर दोपरही में राहें सारी तक डाली साइकिल से पैदल चलकर तेरा बलखाना अच्छा था बस मुझसे ही बातें करने पर जग का जलजाना अच्छा था
लेकिन हम दोनों मिल पाते, थी रब की शायद रजा नहीं मै आज भी तुझ पर मरता हूँ,शायद तुझको ये पता नहीं...
दो-चार घड़ी दो चार कदम गर साथ मेरे तू चल पाती तब सूरज की गर्म समायें भी फिर मेरे आगे ढल  जाती तुझमे थी सोंच-समझ लेकिन मेरी चाहत बेबाकी थी तूने अपने दिल की कह डाली पर मेरे दिल की बाकी थी
खुद से ज्यादा चाहा तुझको, की इसके सिवा कोई खता नहीं मै आज भी तुझ पर मरता हूँ,शायद तुझको ये पता नहीं.
देखें कैसे भिड़ती हैं  कमजोर हवाएं  दुनिया की हमने भी तो देखी हैं कुछ जोर वफ़ाएं  दुनिया की इस चेहरे की ख़ामोशी पर एक तेज सी चाहत खिल जाती एक ख्वाब मुकम्मल हो जाता, गर हाँ मे हाँ तेरी मिल जाती
जिस हिज्रे  गम में जीता हूँ इस बढ़कर कोई सजा नहीं मै आज भी तुझ पर मरता हूँ,शायद तुझको ये पता नहीं.

देश प्रेम की कविता

इस देश की मिट्टी कहती है, रक्षा करो मेरे सम्मानों की|
जब बंदूकें छीनी जाती हैं, कश्मीर में वीर जवानों की||

न एपी न बीजेपी ,न एसपी न बिएसपी की
हम बात करेंगे अन्याय सह रहे,धरती के उस बेटे की
वो कश्मीरी भूल गये, ये मेरे ही रखवाले है
जबकि धैर्य रुका था वीरों का,ये हिन्दोस्ताँ ही वाले हैं

वरना अर्थी उठ जाती, कुछ कश्मीरी परवानों की|
जब बंदूकें छीनी जाती हैं, कश्मीर में वीर जवानों की||

जागो जागो अब तो जागो, हे सत्ता के रखवालों
रोक लो तुम इन पापों को ,हे देश के पालनहारों
हाथ न डालोगे जो तुम, इन शैतानो की बर्बादी मे
बह जाओगे तुम भी एकदिन, इस बुरे वक्त की आंधी मे

अब तो इज्जत लुटती दिखती, धरती के अरमानों की|
जब बंदूकें छीनी जाती हैं, कश्मीर में वीर जवानों की||

Comments

Post a Comment