Hindi All Type Shayari

Hindi shayari

Hindi All Type Shayari

हिन्दी Love शायरी

गगन में उड़ने वाला एक परिंदा हूँ मै,
खुशी का वक्त है और फिर भी शर्मिंदा हूँ मै,
अपनी वो खुश्बू भरी सांस न रुकने देना;
तेरी उन सांसो के चलने से ही जिन्दा हूँ मै|

Comments