Sunday, 18 February 2018

Sad शायरी

दूर होकर भी तेरी आँखे नम नहीं हैं,
तेरी चाहत के सिवा कोई करम नहीं है,
अभी तक सूखे नहीं मेरे घाव सिर्फ इसलिए;
क्योंकि मेरे पास तेरे जैसा कोई मरहम नहीं है|

First

लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं / हिंदी कविता शायर के द्वारा

￰घर में बच्चे लेकिन बहार  मशहूर होते  हैं अ जी लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं लड़के भी घर से बाहर मम्मी-पापा के बगैर  होते हैं ...