Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2018

Satyendra ki famous shayari

ये ज़िंदगी मै तुझे आबाज करता हूँ,
तेरे लिए खुद को जाबाज  करता हूँ,
मुझे पता है तेरा अंजाम मौत है,
फिर आज तुझसे आगाज  करता हूँ....

Satyendra Kumar ki sad shayari

Mother's Day Quote

Satyendra Kumar

अभी तो दुनिया की पहचान बाकी है,

अभी तो बीच सफर में थकान बाकी है,

तुमने अभी से समेट लिए पर अपने,

     अभी तो सारी उड़ान बाकी है.....         


Sad शायरी By शायर Satyendra Kumar

कभी तैर कर देखो दिल की गहराई में

कभी थोड़ा चल कर देखो मेरी परछाहीं में

तुमको अकेले में मेले नजर आयेंगे

कभी झांक कर देखो मेरी  तनहाई में



कहां और कैसा हूं मै ये सबाल उसका है

दिल और दिमाग में बस ख्याल उसका है

दिन और रातें कटती हैं बस इसी उम्मीद में

न जाने  कैसा अब हाल उसका है


शायर सत्येन्द्र की Sad शायरी

हम बारिश में पतंग उड़ाना जानते हैं,

दिल की आग को बुझाना जानते हैं,

अब न कहना कि हमे रोना नहीं आता,

दरअसल हम आंखों में आंसू सुखाना जानते हैं...