Friday, 11 May 2018

Satyendra Kumar

अभी तो दुनिया की पहचान बाकी है,

अभी तो बीच सफर में थकान बाकी है,

तुमने अभी से समेट लिए पर अपने,

     अभी तो सारी उड़ान बाकी है.....         
 

First

लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं / हिंदी कविता शायर के द्वारा

￰घर में बच्चे लेकिन बहार  मशहूर होते  हैं अ जी लड़के भी रोते हैं, जब घर से दूर होते हैं लड़के भी घर से बाहर मम्मी-पापा के बगैर  होते हैं ...